Ferozepur News

सीमावर्ती जिले में 9 हजार से अधिक विद्यार्थियों को घर बैठे ऑनलाइन शिक्षा मुहैया करवाएगा डीसीएम ग्रुप

वीडियो लैक्चर के माध्यम से की जा रही बच्चों के ज्ञान में बढ़ौतरी-

सीमावर्ती जिले में 9 हजार से अधिक विद्यार्थियों को घर बैठे ऑनलाइन शिक्षा मुहैया करवाएगा डीसीएम ग्रुप

सीमावर्ती जिले में 9 हजार से अधिक विद्यार्थियों को घर बैठे ऑनलाइन शिक्षा मुहैया करवाएगा डीसीएम ग्रुप
-अध्यापकों को दी जा रही ट्रेनिंग, बच्चों को योगा, डांस, आर्ट एंड क्रॉफ्ट का दिया जा रहा ज्ञान-
-वीडियो लैक्चर के माध्यम से की जा रही बच्चों के ज्ञान में बढ़ौतरी-
फिरोजपुर, 7 अप्रैल, 2020: कोरोना वायरस के चलते स्कूल बंद होने के कारण डीसीएम ग्रुप ऑफ स्कूल्स के होनहार स्टॉफ द्वारा तकनीक की मदद से बच्चों को घरों तक शिक्षा पहुंचाने के लिए दिन-रात मेहनत की जा रही है। समूह की इस कार्य योजना का विद्यार्थी वर्ग को खूब लाभ मिल रहा है।
डिप्टी हैड एकैडमिक्स योगिता पुरी ने बताया कि अब तक 6 हजार से अधिक विद्यार्थियों को घर बेठे शिक्षा मुहैया करवाई जा रही है और इस सप्ताह के अंत तक यह संख्या 9 हजार का आंकड़ा पार कर जाएगी। उन्होंने बताया कि क्लॉस टू होम प्रोजैक्ट के अंतर्गत बच्चों के लिए ऑनलाइन शिक्षा की व्यवस्था की गई है ताकि वह बिना किसी रोक के घर बैठकर अपनी पढ़ाई जारी रख सके।
हैड सीनियर सैकेंडरी ललित मोहन गुप्ता ने कहा कि जहां अन्य विद्यार्थियों को घर बैठे ऑनलाइन रिर्सोस मुहैया करवा रहे है, वहीं गयारहवीं व बाहरवीं के बच्चों का समय खराब ना हों, इसके लिए विशेष इंतजाम किए गए है। घर से ही बच्चों को उन्हीं की कक्षा के अध्यापक वीडियों लैक्चर द्वारा पढ़ा रहे है। बच्चों तक गुगल क्लॉस रूम, माइक्रोसॉफ्ट टीम, स्कूल की अपनी मोबाइल एप सहित तकनीक के विभिन्न साधनों द्वारा शिक्षा पहुंचाई जा रही है।
हैड फाइनैंस दीपक मोंगा ने बताया कि आने वाला युग तकनीक का है और इस संकट के माहौल में तकनीक ही विद्यार्थियों के लिए रामबाण साबित हो रही है। उन्होंने बताया कि डीसीएम के हरेक शिक्षक को पहले ही ट्रेनिंग दी जा चुकी थी, जिसका फायदा अब विद्यार्थियों को हो रहा है।
सीनियर कार्यकारी हयूमन रिसोर्स शिवानी गुलाटी ने बताया कि जहां विद्यार्थियों को घर बैठे शिक्षा दी जा रही है, वहीं अध्यापकों के लिए ऑनलाइन ट्रेनिंग व्यवस्था भी शुरू की गई है ताकि वह घर पर अपने ज्ञान में बढ़ौतरी कर सके, जिसका फायदा विद्यार्थियों तक पहुंचेेगा। उन्होंने बताया कि शिक्षा के अलावा विभिन्न विभागों द्वारा योगा, आर्ट एंड क्राफ्ट, डांस सहित विभिन्न प्रकार की क्रियाओं की ट्रेनिंग भी दी जा रही है, जिसके लिए अध्यापक दिन-रात मेहनत कर रहे है।
अभिभावकों में शामिल डा. अंकिता, सुप्रिया, उपासना  ने बताया कि डीसीएम ग्रुप का यह वाकई सराहनीय कदम है। जहां उनके बच्चें नएं शैक्षणिक सत्र की तैयारियों में जुटे थे तो वहीं लॉकडाऊन के कारण स्कूल बंद होनें के कारण उन्हें लगा था कि उनकी शिक्षा प्रभावित होगी। लेकिन स्कूल प्रबंधन ने मौके पर ही ऑनलाइन एजुकेशन की व्यवस्था करके अच्छा प्रयास किया है और इसका उनके बच्चों सहित उन्हें भी काफी लाभ मिल रहा है।
वहीं विद्यार्थियों एरिश, शुभि, मानसवी, अरशिया ने कहा कि वह पहली बार ऑनलाइन एजुकेशन हासिल कर रहे है और उनहें अपने अध्यापकों द्वारा दी जाने वाली शिक्षा काफी अच्छे से समझ में आने के साथ-साथ तकनीक के बारे में भी काफी ज्ञान मिल रहा है और वह अपना समय को व्यर्थ करने की बजाय अपने ज्ञान में भी बढ़ौतरी कर रहे है।

Related Articles

Leave a Comment

Back to top button
Close